तनाव लक्षण कारण और उपचार (Stress- Symptoms cause & Treatment )

किसी ने 20 साल पहले कहा था कि विकासशील देशों के नागरिकों में तनाव आहिस्ता आहिस्ता बढ़ेगा और 2050 तक सभी हॉस्पिटल को 30 परसेंट बेड मनो रोगियों के लिए रिजर्व रखना पड़ेगा । ऐसा लगता है कुछ हद तक यह स्थिती 20 साल बाद नजर आ रही है । व्यक्ति की दौड़ पहले की अपेक्षा तेज हो गई है चाहे वह बिजनेसमैन हो या एंपलाई हो या स्टूडेंट हो  तनाव से गुजर रहे हैं भौतिकता ने सभी को जकड़ लिया है

तब ऐसी स्थिति में तनाव बढ़ना स्वाभाविक है यदि हम देखें तो पाएंगे कि व्यक्ति कभी स्वयं से तो कभी हालात से संघर्ष करता हुआ दिखलाई पड़ता है और यही संघर्ष की स्थिति में वह तनावग्रस्त हो जाता है . सबसे पहले हम इसके लक्षणों पर ध्यान देंगे तो पहला लक्षण यह है की व्यक्ति उदास रहता है कभी-कभी दिन भर तो कभी-कभी हमेशा के लिए उसका किसी काम में मन नहीं लगता अर्थात उसकी रूचि धीरे-धीरे काम में कम होते जाती है जैसे उदाहरण के लिए कोई विद्यार्थी है तो उसका पढ़ाई में मन नहीं लगेगा कोई कर्मचारी है तो उसका ऑफिस में काम में मन नहीं लगेगा इसके बाद उसे हमेशा ऐसा लगता है की सभी गलतियों की जिम्मेदारी उसकी है अर्थात कई बार वह अपराध बोध से भरा रहता है यह भी देखा गया है कि वह हमेशा थकान महसूस करता है क्योंकि उसमे ऊर्जा की कमी होती है व्यक्ति ठीक से किसी चीज पर फोकस नहीं कर पाता ध्यान नहीं दे पाता और उसका मन इधर से उधर बंदर की तरह भागता रहता है यह भी देखा गया है की उसे भूख नहीं लगती नींद नहीं आती और यदि आती भी है तो बीच-बीच में खुल जाती है कभी-कभी उसे आत्महत्या का विचार भी आता है ऐसा लगता है की उसे जी कर कुछ नहीं मिलेगा बल्कि मरने के बाद सारी समस्या का अंत हो जाएगा यह सारे विचार या लक्षण 14 दिन से अधिक रहते हैं तो समझ लेना वह व्यक्ति डिप्रेशन का शिकार है अब हम इसके कारणों पर प्रकाश डालते हैं यह पाया गया है कि यदि परिवार का कोई व्यक्ति डिप्रेशन का शिकार रहा है तो दूसरे व्यक्ति को यह बीमारी वंशानुगत आ सकती है इसके बाद यह भी पाया गया है व्यक्ति में कॉर्टिसोल हार्मोन की मात्रा बढ़ जाती है यह भी एक डिप्रेशन का कारण होता है म मुख्य दो कारण होते हैं एक बायोलॉजिकल और दूसरा साइकोलॉजिकल , बायोलॉजिकल में सेरोटोनिन नैरो सिनोनिम और डोपामाइन केमिकल की कमी हो जाती है इसलिए व्यक्ति डिप्रेशन में चला जाता है साइकोलॉजिकल कारण में नेगेटिव थॉट्स का बार बार आना यहां तक की पॉजिटिव सिचुएशन में भी नेगेटिव सोचना, किसी अज्ञात घटना का भय होना, लाइफ पार्टनर से अलग होना या ब्रेकअप होना, रिलेशनशिप का खराब होना यह सब डिप्रेशन के कारण होते हैं अब हम इसके उपचार के बारे में बात करेंगे व्यक्ति को सबसे पहले यह स्वीकार करना पड़ेगा की वह डिप्रेशन से पीड़ित है यह डिप्रेशन किसी भी व्यक्ति को आ सकता है चाहे वह दुबला हो मोटा हो शारीरिक रूप से स्ट्रांग हो कमजोर हो कोई भी व्यक्ति डिप्रेशन का शिकार होता है सबसे पहले उसे रोज मॉर्निंग वॉक करना चाहिए, योग और प्राणायाम को दैनिक जीवन का हिस्सा बनाना चाहिए, अपने आपको ऑटो सजेशन देना चाहिए जैसे कि मैं समाज का महत्वपूर्ण हिस्सा हूं समाज को मेरी जरूरत है समाज मेरे बिना नहीं चल सकता इस प्रकार बार-बार ऑटो सजेशन देना है और मन में दोहराना है साथ ही साथ उसे काउंसलर या मनोचिकित्सक की सहायता भी लेना है अर्थात यह ऐसी बीमारी है जो ठीक हो सकती है ।

Somebody had said 20 years ago that the tension in the citizens of developing countries would increase gradually and by 2050 all the hospitals would have to reserve 30 percent beds for psychiatric patients. It seems that to some extent this situation is visible after 20 years. The race of a person has become faster than before whether it is a businessman or an employee or a student, undergoing stress, physicality has grabbed everyone.

Then in such a situation, it is natural to increase the tension. If we see, then we will find that the person is sometimes seen struggling with the situation of himself and in the same situation, he gets stressed. First of all we will pay attention to its symptoms, then the first symptom is that the person remains depressed sometimes throughout the day or sometimes forever he does not feel like doing any work, that is, his interest gradually decreases in work like For example, if there is a student, he will not feel like studying, if there is an employee, then he will not feel like working in his office, after this he always feels that he is responsible for all the mistakes, that sometimes he is full of guilt. It has also been seen that he always feels tired because he lacks energy, the person is unable to focus on anything properly and cannot concentrate and his mind keeps running like a monkey. He does not feel hungry, does not sleep and even if he comes, he sometimes opens up, sometimes he also has the idea of suicide, it seems that he will not get anything by living, but after dying, the whole problem will end. If all these thoughts or symptoms last more than 14 days, then understand that the person is a victim of depression, now we throw light on its causes. It is said that if a person of the family has been suffering from depression then the other person may have inherited the disease. After this it has also been found that the amount of cortisol hormone increases in the person. It is also a cause of depression in the main two. Causes are one biological and other psychological, biological is lacking in serotonin and dopamine chemical, so the person goes into depression. Fear of incident, separation from life partner or breakup, relationship deterioration are all due to depression. Now we will talk about its treatment. The person must first accept that he is suffering from depression. Any person can come, whether he is lean, fat, physically strong, weak, anyone who suffers from depression, first of all he should walk daily morning, make yoga and pranayama a part of daily life, himself. Auto refresh As if I am an important part of the society, the society needs me. The society cannot run without me, thus, it is necessary to give auto suggetions and repeat in the mind as well as to seek the help of a counselor or psychiatrist, that is, such a disease can be cured.

Sudhir Singh Gour, Counselor, ( Post graduate Diploma in Guidance and Counseling )

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: