जो दीपक की तरह जलने को तैयार हो (Ready to burn like a lamp)

गिरे हुओं को उठाना, पिछड़े हुओं को आगे बढ़ाना, भूले को रहा बताना और जो अशांत हो रहा है उसे शांतिदायक स्थान पर पहुंचा देना, यह वस्तुत: ईश्वर की सेवा ही है. जब हम दुखी और दरिद्र को देखकर व्यथित होते हैं और मलिनता को स्वच्छता में बदलने के लिए बढ़ते हैं तो समझना चाहिए कि यह कृत्य ईश्वर के लिए उसकी प्रसन्नता के लिए ही किए जा रहे हैं। दूसरों की सेवा- सहायता अपनी ही सेवा सहायता है। प्रार्थना उसी की सार्थक है जो आत्मा को परमात्मा में घुला देने के लिए व्याकुल हो , जो अपने को परमात्मा जैसा महान बनाने के लिए तड़पता है, जो प्रभु को जीवन के कण-कण में घुला लेने के लिए बेचैन है। जो उसी का होकर जीना चाहता है उसी को भक्त कहना चाहिए दूसरे तो विदूषक है । लेने के लिए किया हुआ भजन वस्तुतः प्रभु प्रेम का निर्मम उपहास है ।भक्ति में तो आत्मसमर्पण के अतिरिक्त कुछ और होता ही नहीं वहां देने की ही बात सूझती है। लेने की इच्छा ही कहां रहती है ।ईश्वर का विश्वास सतकर्मों की कसौटी पर ही परखा जा सकता है । जो भगवान पर भरोसा करेगा वह उसके विधान और निर्देश को भी अंगीकार करेगा। भक्ति और अवज्ञा का तालमेल बैठता कहां है।? हम अपने आप को प्यार करें ताकि ईश्वर से प्यार कर सकने योग्य बन सके।

Ready to burn like a lamp

Raising the fallen, advancing the backward, telling the forgotten and bringing the disturbed to a peaceful place, it is really a service to God.  When we are saddened and distressed to see the poor and grow to change the filthiness into cleanliness, then we should understand that these acts are being done only for the pleasure of God.  Service to others- Help is your own service support.  Prayer is worthwhile for one who is anxious to dissolve the soul into the divine, who longs to make himself as great as the divine, who is restless to dissolve the Lord in every particle of life.  The one who wants to live by that person should be called a devotee, the other is a clown.  The hymn to be taken is in fact a ruthless derision of the Lord’s love. In devotion, there is nothing more to offer than surrender.  Where is the desire to be taken. The faith of God can be tested only on the test of truth.  He who trusts in God will also accept his legislation and instructions.  Where does the harmony of devotion and disobedience sit?  May we love ourselves so that we can be able to love God.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: