Messages of Major Religions

From the presentation at the Bangkok conference on Religion,conflict or peace ?

Religion as spring board for generating inter ethnic and inter religious peace .

All religions aim at evolving better human being.what is to be realised is that followers of any religion is believer.The concept of “believer of one particular religion is believer and believer of other religion is non believer” is to be transformed into concept of “believer is believer irrespective of the way he follows”.

Then harmony and peace between followers become harmony and peace between people.Then all are brothers and there are no others.

Let us see the message of major religions

  • Christianity-. love and compassion
  • Islam – Faith and determination
  • Hinduism – Effort and realisation
  • Buddhism – Peace and Liberation

Love and compassion is related to child in us. Faith and determination is related to youth in us . Effort and realisation is related to adult in us.Peace and liberation is related to elder in us.All four religions together create lovable child, energetic youth,realising adult and peaceful elder. Any one of them addresses a part of us.

Twelve virtues of Christianity. 1) Love 2) joy 3)peace 4) patience 5) kindness 6) goodness 7) gentleness 8) Mildness 9)Faith 10)Modesty 11) self control 12)Chatity

Five Pillars Of Islam. 1) Faith- imaan 2)Giving — Zakat 3)Prayers- Namaj 4) Fasting — Roza 5) Pilgrimage – Haj

Four Yogas of Hinduism ( Knowledge- Endeavour and Realisation). 1) Dedication – ( Bhakti yoga ). 2) Work –. ( Karma Yoga ). 3) Knowledge- ( Gyan Yoga ). 4) Meditation – ( Dhyan Yoga ) 5). For Realisation ( Siddhi )

Eight way Path of Buddhism and way to peace ( Wisdom. – Peace,Liberation ). 1) Right speech 2) Right awareness 3) Right work 4) Right Meditation. 5) Right livelihood 6) Right vision. 7) Right effort 8) Right Intention

With hate you can not win the hate ,with love you can win the hate, Eliminate hate love all too. This is ancient Wisdom for you

प्रमुख धर्मों के संदेश

अंतर जातीय और अंतर धार्मिक शांति पैदा करने के लिए स्प्रिंग बोर्ड के रूप में धर्म।

सभी धर्म मानव को बेहतर तरीके से विकसित करने का लक्ष्य रखते हैं। यह महसूस किया जाता है कि किसी भी धर्म के अनुयायी आस्तिक होते है। हैं । “यदि एक धर्म विशेष के अनुयायियों का विश्वास है कि उसके धर्म में विश्वास करने वाला अनुयायी आस्तिक है और दूसरे धर्म में विश्वास करने वाला गैर आस्तिक है”, तो इसी को रूपांतरित करने की आवश्यकता है । किसी भी धर्म में विश्वास करने वाला ,वह चाहे जो भी अनुयायी हो ,आस्तिक होगा ।

परिणामस्वरूप अनुयायियों के बीच सद्भाव और शांति , लोगों के बीच सद्भाव और शांति बन जाती है। जब सभी भाई होते हैं तो और कोई भी गैर नहीं होता है।

आइए हम प्रमुख धर्मों का संदेश देखें

ईसाई धर्म- प्यार और करुणा

इस्लाम – विश्वास और दृढ़ संकल्प

हिंदू धर्म – प्रयास और बोध

बौद्ध धर्म – शांति और मुक्ति

प्रेम और करुणा का संबंध हमारे अंदर के बच्चे से है। विश्वास और दृढ़ संकल्प हमारे अंदर युवा से संबंधित है।  प्रयास और अहसास हमारे अंदर वयस्क से संबंधित है। हममें शांति और मुक्ति का संबंध बड़े-बुजुर्गों से है। सभी चार धर्म मिलकर प्यारा बच्चा, ऊर्जावान युवा ,बोध पूर्ण वयस्क और शांतिपूर्ण बुजुर्गों को पैदा करता है।  उनमें से कोई भी जब संबोधित करता है तो वह हमारा ही हिस्सा होता है

ईसाई धर्म के बारह गुण।  १) प्रेम २) आनंद ३) शांति ४) धैर्य ५) दया ६) भलाई 2) सज्जनता 9) सौम्यता ९) विश्वास १०) विनय ११) आत्म नियंत्रण १२) चतुरता

इस्लाम के पाँच स्तंभ।  1) आस्था- ईमान 2) देना – ज़कात 3) प्रार्थना- नमाज़ 4) उपवास – रोज़ा 5) तीर्थयात्रा – हज

हिंदू धर्म के चार योग (ज्ञान-प्राप्ति और सिद्धि )।  १) समर्पण – (भक्ति योग)।  2) कर्मा – (कर्म योग)।  ३) ज्ञान- (ज्ञान योग)।  ४) ध्यान – (ध्यान योग) ५)।  बोध के लिए (सिद्धि)

बौद्ध धर्म का मार्ग — (बुद्धि – शांति, मुक्ति का मार्ग ), १) सही भाषण २) सही विवेक ३) सही कार्य ४) सही ध्यान।  5) सही आजीविका 6) सही दृष्टि। 7 ) सही प्रयास, 8 ) सही इरादा

नफरत के साथ आप नफरत नहीं जीत सकते, प्यार से आप नफरत को जीत सकते हैं और नफरत को भी खत्म कर सकते हैं।  यह आपके लिए प्राचीन ज्ञान है

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: